वोटर आईडी कार्ड यानी मतदाता पहचान पत्र | VOTER ID CARD

हम भारत के लोग, यानी भारत की जनता, भारत के संविधान की प्रस्तावना इस शब्द से शुरू होती है, जिसका अर्थ है कि भारत के निवासी ही भारत की पहचान हैं। भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है, यहां हर पांच साल में चुनाव होते हैं, जहां देश के लोगों को देश की प्रगति के लिए देश का प्रतिनिधित्व चुनने का मौका मिलता है और यह अधिकार हर प्रांत, जिले, छोटे शहर के अमीर, गरीब, किसी भी जाति, वर्ग और संप्रदाय के लिए समान है।

Voter Id card

क्या है वोटर आईडी कार्ड (Voter Id card) यानी मतदाता पहचान पत्र |?

चुनावों में धांधली रोकने और चुनावों में पारदर्शिता बनाए रखने के लिए भारत निर्वाचन आयोग ने 1993 में वोटर आईडी कार्ड बनाने का आदेश जारी किया था। ताकि सही मतदाता की पहचान हो सके और किसी भी तरह के घोटाले को रोकने के लिए चुनावी प्रक्रिया को और मजबूत किया जा सके।

वर्ष 2000 में कुछ समय बाद नया मतदाता पहचान पत्र यानि फोटो मतदाता पहचान पत्र बनाने का निर्णय लिया गया। जिसमें मतदाता की जानकारी के साथ उसक फोटो का भी होना चाहिए।

वोटर आईडी कार्ड (voter id card ) यानी मतदाता पहचान पत्र एक कार्ड होता है यह कार्ड आपकी नागरिकता का प्रमाण होता है की आप देश के नागरिक है और इस देश में होने वाले (अपने निवास स्थान के ) लोक-सभा, राज्य-सभा, जिला पंचायत आदि मैं आपको मत यानी वोट डालने का अधिकार प्राप्त है। इस कार्ड से आप अपना वोट अपने प्रधिनित्व को डाल सकते है।

वोटर आईडी कार्ड भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी 10 अल्फ़ान्यूमेरिक यूनिक नंबरों का एक कार्ड होता है, जिसमें आपकी फोटो, आपका नाम, पिता का नाम, जन्म तिथि, घर का पता और चुनाव के आधिकारिक क्षेत्र का पता दिया जाता है। इस कार्ड के बनाने के लिए मतदाता की आयु 18 वर्ष या उससे अधिक होनी चाहिए।

Voter Id card का उद्देश्य।

वोटर आईडी कार्ड का मुख्य उद्देश्य नागरिक को वोट का अधिकार देना है और बहुत से ऐसे सरकारी और गैर सरकारी कार्य होते है है जिसमे आपको अपनी पहचान को प्रमाणित करना होता है तो आप अपना वोटर आईडी कार्ड दिखा सकते है।

हमारा देश दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश है, वोटर आईडी कार्ड बनाने से नागरिक का रिकॉर्ड भी देश की सरकार के पास रहता है जिससे सरकार उन तमाम लोगो तक सुविधाओं और योजनाओ की सुहूलियत प्रदान कर सके जो इनसे वंचित रह जाते है। मतदाता रिकॉर्ड भारत के चुनाव आयोग के पास रहता है, जो इस बात की जानकारी देता है कि चुनाव के समय देश में कितने लोग अपने वोट और वोट के अधिकार का उपयोग करते हैं।

Voter Id card के फायदे क्या है ?

  • आपको भारतीय नागरिकता प्रदान करता है।
  • वोटर आईडी कार्ड के सबसे महत्वपूर्ण लाभ आपको वोट देने का अधिकार है भारत में चुनाव हर 5 साल में एक बार आते हैं और चुनावों को भारत में त्योहार की तरह मनाया जाता है।
  • आप निवास के प्रमाण के रूप में वोटर आईडी कार्ड दिखा सकते है।
  • आप सरकारी योजनाओं के लिए आवेदन कर सकते है।
  • मोबाइल सिम भी खरीद सकते हैं।

Voter Id card बनाने के लिए दस्तावेज।

आयु और पहचान के लिए:दसवीं कक्षा की मार्कशीट
आधार कार्ड
पासपोर्ट
पैन कार्ड
ड्राइविंग लाइसेंस
निवास प्रमाण के लिए :राशन कार्ड
आधार कार्ड
रेंट एग्रीमेंट
ड्राइविंग लाइसेंस
फ़ोटो :आवेदक का एक हालिया खिचाया कलर पासपोर्ट साइज फ़ोटो
मतदाता पहचान पत्र बनाने के लिए दस्तावेज।

Voter Id card बनाने के लिए पात्रता।

  • आवेदक की आयु कम से कम 18 वर्ष होनी चाहिए। जिस वर्ष वह आवेदन कर रहा है, उसकी पहली जनवरी को उसकी आयु 18 वर्ष या उससे अधिक होनी चाहिए।
  • उनके पास पहले से मतदाता पहचान पत्र या मतदाता सूची में उनका नाम नहीं होना चाहिए।

Voter Id card बनाने का तरीका

वोटर आईडी कार्ड बनाने के तरीके निम्नलिखित हैं, आप इनमे से एक तरीका अपना के अपना कार्ड बना सकते हैं।

1.वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन आवेदन करें। ( voter id card apply online )
2.वोटर आईडी कार्ड ऑफलाइन आवेदन करें। ( voter id card apply offline )

वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन आवेदन करें। ( voter id card apply online )

वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन आवेदन करें। ( voter id card apply online
  • वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन अप्लाई करना बहुत आसान है, इसके लिए आपको मतदाता पोर्टल भारत चुनाव आयोग https://voterportal.eci.gov.in/ पर जाना होगा, वहां आपको रजिस्ट्रेशन करना होगा, इस पोर्टल में आप अपनी मोबाइल आईडी या ईमेल आईडी से रजिस्टर कर सकते है।
  • रजिस्ट्रेशन करने के बाद आपको लॉग इन करना होगा, जैसे ही आप लॉग इन करेंगे एक फॉर्म खुलेगा जिसमें आपको अपना नाम, राज्य और अपना लिंग चुनकर सबमिट करना होगा।
  • सबमिट करने के बाद डेशबोर्ड खुलेगा जिसमें सेवाओं की दी गयी होगी, जिसमें से आपको नया वोटर आईडी के लिए नया मतदाता पंजीकरण ( New Voter registration ) पर क्लिक करना है।
  • अब आपको Lets Start पर क्लिक करना है, जिसके बाद आपसे कुछ जानकारी मांगी जाएगी, आपको उसका चयन करना है और अपने दस्तावेज़ अपलोड करना है, ध्यान रखें कि दस्तावेज़ों की फाइल साइज 2 mb से अधिक नहीं होना चाहिए।
  • इसके बाद अगर आपकी उम्र 21 वर्ष से ज्यादा है तो आपको age declaration फॉर्म को डाउनलोड बटन से डाउनलोड करके उसे भर कर अपलोड कर दे फिर सेव एंड कंटिन्यू पर क्लिक करे।
  • इसके बाद आपसे कुछ और जानकारी मांगी जाएगी जैसे पर्सनल डिटेल्स में आपका नाम, लिंग, आपकी फोटो, परिवार के किसी एक सदस्य का विवरण, विवाहित महिलाएं अपने पति का वोटर आईडी विवरण दे सकती हैं, उसके बाद आपको अपने स्थायी पते की जानकारी पिनकोड, तहसील , शहर, राज्य देना है फिर आपको अपने निवास प्रमाण पत्र के दस्तावेज को अपलोड करना है और सेव एंड कंटिन्यू पर क्लिक करना है।
  • अब लास्ट स्टेप में आपको डिक्लेरेशन में पूछी गई जानकारी को सेलेक्ट करना है और फिर अपना नाम डालकर सेव एंड कंटिन्यू पर क्लिक करना है, अब आपके द्वारा भरा गया ऑनलाइन फॉर्म आपके सामने खुल जाएगा जिसे आपको एक बार चेक करना है, सारी जानकारी सही है तो आपको सबमिट पर क्लिक करना है फिर आपको एक नोटिफिकेशन मिलेगा कि आपका आवेदन पूरा हो गया है और आपकी ईमेल आईडी पर आपकी एक्नॉलेजमेंटआईडी दे दी गई है।
  • यह सारी जानकारी आपके बीएलओ के पास जाएगी और इसे अपने स्तर पर चेक करेगा और कुछ समय बाद आपका वोटर आईडी कार्ड बन जाएगा। आप एक्नॉलेजमेंट आईडी से आपने कार्ड की स्तिथि भी चेक भी कर सकते है।

वोटर आईडी कार्ड ऑफलाइन आवेदन करें।( voter id card apply offline )

  • ऑफलाइन आवेदन करने के लिए आप नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके फॉर्म 6 डाउनलोड कर सकते हैं,
  • अब फॉर्म को सावधानी पूर्वक भरना है फॉर्म और दस्तावेजों को अपने आवासीय स्थान के बीएलओ कार्यालय में जमा करना है
  • कुछ ही समय बाद आपका Voter Id card जारी कर दिया जाएगा।

FAQ

1. वोटर आईडी कार्ड बनाने के लिए क्या-क्या दस्तावेज चाहिए ?

मतदाता पहचान पत्र बनाने के लिए आयु प्रमाण, निवास प्रमाण और पासपोर्ट साइज फोटो की आवश्यकता होती है।

2.वोटर आईडी कार्ड बनने में कितना समय लगता है?

वोटर आईडी कार्ड बनने में कम से कम 30 दिन का समय लगता है।

3.मतदाता पहचान पत्र खो गया है, मैं इसे फिर से कैसे प्राप्त कर सकता हूं?

यदि किसी कारणवश वोटर आईडी कार्ड गुम हो जाता है तो आप ऑनलाइन पोर्टल पर जाकर दोबारा प्राप्त कर सकते हैं, आपको ऑनलाइन पोर्टल पर जाना है और पोर्टल में लॉग इन करने के बाद “Replacement of Voter ID ” विकल्प का चयन करना है और भपूछी गयी जानकारी भरकर आप इससे दुबारा प्राप्त कर सकते है।

4.भारत निर्वाचन आयोग का हेल्पलाइन नंबर क्या है ?

भारत निर्वाचन आयोग का हेल्पलाइन टोल फ्री नंबर है 1800111950

आशा करता हूँ की आपको ये ब्लॉग पसंद आया होगा अगर इस ब्लॉग से आपको मदद मिली हो तो कमेंट कर के अवश्य बताएं धन्यवाद आपका दिन शुभ हो।

4 thoughts on “वोटर आईडी कार्ड यानी मतदाता पहचान पत्र | VOTER ID CARD”

Leave a Comment

%d bloggers like this: